Menu Close

Introduction To Android Activities|Android Tutorial in Hindi

Android Activity –

Android Activity एक simple screen होती है | किसी भी Android app में एक से ज्यादा Activity होती है, मतलब जब कोई Android Application प्रयोग करते है तो उसमे एक से ज्यादा pages होते है, हम अपने आवश्यकता अनुसार एक screen से दूसरे screen पर जाते है तो Android में वे सभी screen Activity कहलाती है |

Generally एक Activity पर बहुत से Controls होते है जैसे – Labels, Text-boxes, Images, Buttons, Radio buttons, drop-downs. User इन Controls के साथ Interaction करते है और Input provide करता है|और Activity इन सभी Controls की Handling Activity करती है |

Android Activity को हम इस प्रकार समझ सकते है की Activity, Android Application का ऐसा भाग होता है जो User को Android App में कोई भी Action perform करने में help करता है |

जैसा की हम traditional programming paradigm में हम देखते है की कोई भी program main( ) से start होता है , जबकि एंड्राइड में ऐसा नही है| Android सिस्टम में कोई भी program Activity की सहायता से start होती है जिसे सामान्यतः launcher activity या main activity की सहायता से denote किया जाता है|

Concept of Android Activity –

Mobile App का Experience Desktop App से अलग होता है| Desktop App में user हमेशा किसी main-screen से interact करता है जबकि Android app में ऐसा नही है इसमें user कही से भी interact कर सकता है | जैसे की हम कोई email app direct open करते है तो हमे सबसे पहले email की लिस्ट (main activity) दिखाई देगी, लेकिन जब हम किसी दूसरे application से उसी email app को open करते है तो हमे direct email compose करने का option(compose activity) आता है| इसलिए हम यह कह सकते है की activity किसी भी एंड्राइड application का entry point होता है|

एक activity हमे वह window provide करती है झा पर application अपनी UI (User Interface) ड्रा करता है| सामान्यतः एक Activity एक screen को fill करती है| अधिकांश App में एक से ज्यादा Screen होती है इसका मतलब है की उसमे एक से ज्यादा Activity है|

किसी भी Activity को use करने के लिए सबसे पहले हमे उसे manifest file में उसके बारे में जानकारी दर्ज करनी पड़ती है, और Activity की life-cycle को properly manage करना पड़ता है, जिसके बारे में हम आगे पढेंगे|

Managing the Activity Life cycle –

एक Activity अपने lifetime में बिभिन्न states से होकर गुजरती है|हम Activity के बिभिन्न states के बीच transitions को handle करने के लिए कुछ callbacks की सीरीज का प्रयोग करते है, जो इस प्रकार है –

  • onCreate()
  • onStart()
  • onResume()
  • onPause()
  • onStop()
  • onRestart()
  • onDestroy()

आईये अब हम सब इन callbacks के बारे में detail में जानते है|

onCreate() –

यह सबसे important callback method होता है| यह callback तब fire होते है जब system activity को create करता है | यह callback activity के essential component को initialize करता है | इसी method में हमे view को initialize करना तथा data को bind करना होता है|  सबसे महत्वपूर्ण बात, यह वह जगह है जहां आपको setConentView() गतिविधि के उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस के लिए layout को परिभाषित करने के लिए call करना होता है |

जब onCreate() finish होता है तो हमेशा अगला callback onStart() होता है|

onStart() –

जब activity start state में प्रवेश करती है तो यह callback call होता है, और onCreate() existमें आता है |और activity या screen user को दिखाई देने लगती है |

onResume() –

User के interact होने से just पहले system इस callback को invoke करता है |  इस बिंदु पर Activity, activity stack के top पर होती है, और User के सभी Input को capture करता है। ऐप की अधिकांश core कार्यक्षमता onResume() method में लागू की गई है ।

onPause() –

Android system onPause() method को तब call करता है जब Activity focus खो देती है और एक paused state में प्रवेश करती है। यह स्थिति तब होती है, जब उदाहरण के लिए, User back या Recent button पर click करता है|

जब सिस्टम activity के लिए onPause() call करता है , तो तकनीकी रूप से इसका मतलब है कि आपकी Activity अभी भी Partially दिखाई दे रही है, लेकिन सबसे अधिक बार एक संकेत है कि User Activity को बंद कर रहा है, और या तो Activity फिर से user के द्वारा start की जाएगी और resume state में enter होगी या activity बंद कर दी जाएगी|

जब भी onPause() method invoke होती है तो अगला method या तो onResume() होगी नही तो onStop().

onStop() –

Android system onStop() तब कॉल करता है जब Activity User को दिखाई नहीं देती है। ऐसा तभी होता है जब Activity destroy हो जाती है या एक नई Activity start हो रही है, या एक मौजूदा activity फिर से शुरू हो रही है और रुकी हुई Activity को कवर कर रही है। इन सभी मामलों में, रुकी हुई activity अब बिल्कुल भी दिखाई नहीं देती है।

अगली कॉलबैक जिसे सिस्टम कॉल करता है onRestart() , यदि activity दुबारा से start हो रही है, onDestroy() यदि यह activity पूरी तरह से समाप्त हो रही है।

onRestart() –

System इस कॉलबैक को तब invoke करता है जब stopped state में कोई Activity फिर से शुरू होने वाली हो। onRestart() activity की state को उस state में restore करता है जब उसे रोका गया था।

onDestroy() –

किसी Activity के destroy होने से पहले सिस्टम इस कॉलबैक को invoke करता है।

यह किसी Activity की अंतिम callback होती है। onDestroy() आमतौर पर यह सुनिश्चित करने के लिए लागू किया जाता है कि Activity के द्वारा सभी resourse release हो गये है या नही, जब Activity, या इसके साथ होने वाली process destroy हो जाती है।

Source : – https://developer.android.com/

 

 

Posted in Android

Related Posts

4 Comments

Leave a Reply